Home Contact About

Motorola kaha ki company hai ? मोटोरोला किस देश की कंपनी है ?


Saturday 27 February 2021 Premchand Hansda
Motorola kaha ki company hai ? मोटोरोला किस देश की कंपनी है ?

दोस्तों इन दिनों बहुत सारे उपकरण सामने आ रहे हैं और बहुत सारे उपकरण होने की वजह से यह पता ही नहीं चलता है कि कौन सा उपकरण या कौन सा प्रोडक्ट किस कंपनी का है पर आज हम मोटो कंपनी की चर्चा करेंगे आखिर यह मोटो कंपनी कहां की है ? moto kaha ki company hai ? motorola kaha ki company hai ? motorola phone kaha ki company hai ? इस का सीईओ कौन है ? और यह कब बना , इन सब चीजों को आज हम आप लोग के समक्ष किस आर्टिकल के माध्यम से साझा करेंगे।

मोटोरोला कंपनी किसका है ? (Motorola company kiska है ?

मोटरोला ( Motorola )अमेरिका की एक मल्टीनेशनल telecommunication company है । यह मोटरोला कंपनी दुनिया का सबसे प्रचलित कंपनी है, यह कंपनी सबसे पहले पोर्टेबल डिवाइस (Portable Devices) बनाया था। कुछ समय पहले यह मोटरोला कंपनी इतना विकसित था कि ये कंपनी मोबाइल बनाने में नंबर वन पर था।
इससे ये बात तो बिलकुल साफ़ हो गया कि, मोटोरोला कंपनी (Motorola Company) ,अमेरिका की एक कंपनी है।

Motorola Company kaha ka hai (मोटोरोला कंपनी कहाँ का है ?)

कुछ समय पहले साल 2007 से लेकर 2009 तक बाजार में तरह-तरह के मोबाइल लॉन्च किया गया और सब का फीचर बहुत अलग-अलग तरस आया और यह मोटरोला कंपनी घाटे में चल गया जिसकी वजह से मोटोरोला कंपनी अपने मोबाइल फोन का सेलिंग कम होता गया जिसकी वजह से यह कंपनी को बेचना पड़ गया और बहुत सारे उपकरणों के कारण मोटरोला कंपनी घाटे के सौदे में आ गया।

मोटोरोला कंपनी की स्थापना 25 सितंबर 1928 को अमेरिका के राज्य Illinois के शहर शिकागो में हुआ था । जिसका संस्थापक पाल Galvin or Joseph Galvin थे।
तो आपके मन में जो सवाल था कि , मोटोरोला किस देश की कंपनी है? तो आपको पता चल ही गया होगा कि , मोटोरोला कंपनी अमेरिका की एक कंपनी है।
लेकिन मजे की बात ये है की मोटोरोला को बाद में बेचा भी गया था , तो आइये अब आगे जानते हैं की मोटोरोला को किसे बेचा गया , और अब ये किस देश की कंपनी है ? क्या मोटोरोला एक चीनी कंपनी है ? जानने के लिए आगे पढ़ते रहें !

मोटोरोला ( Motorola) कहाँ की कंपनी है ? मोटोरोला का इतिहास।

दोस्तों अब आपके मन में ये सवाल आ रह होगा की आखिरकार motorola company को क्यों बेचा गया , किसे बेचा गया ? और जिसे अभी बेचा गया , क्या वो एक चाइना कंपनी है ?

ये जानने से पहले जानते हैं की मोटोरोला का इतिहास क्या है-----

मोटरोला कंपनी का इतिहास बहुत ही रोचक है यह कंपनी " Paul Galvin " और "Joseph Galvin" ने मिलकर बनाया था वह भी एक भाड़े के रूम में, इन दोनों ने मिलकर अपने कंपनी का नाम Galvin manufacturing corporation नाम रखा था। यह कंपनी भाड़े का रूम में होने के कारण और ज्यादा बजट ना होने के कारण, इस कंपनी में सिर्फ 5 employee ही थे। यह कंपनी के शुरुआत में नीलामी में खरीदे गए ""estimate battery company'' के कुछ वस्तुओं से अपनी कंपनी का शुरुआत किया और जब यह कंपनी का शुरुआत हुआ तब इन्होंने सबसे पहले बैटरी eliminator बनाया और अपनी कंपनी को आगे बढ़ाने का कार्य को बनाए रखें। और यह कंपनी जब बैटरी एलिमिनेटर बनाएं तब बहुत सी जगह इनका सप्लाई बढ़ने लगा जिसके माध्यम से जो रेडियो या बैटरी वाला बाजा वह सब अब लाइन के माध्यम से चल सकते हैं जिससे फायदा तो बहुत था परंतु यह invention ज्यादा दिन तक नहीं चल सका।
जब केल्विन का कंपनी बैटरी एलिमिनेटर नहीं चल पाया तब गैल्विन मैन्युफैक्चरिंग कॉरपोरेशन मोटर कार में लगने वाला रेडियो का काम शुरू कर दिया जब इन्होंने यह काम का शुरुआत किया तब इनका मैन्युफैक्चरिंग कॉरपोरेशन बहुत अधिक लोकप्रिय हो गया और लोकप्रियता बढ़ने का सबसे बड़ा वजह तब बना जब उसने रेडियो मेरे फैक्चरिंग एसोसिएशन के एक सम्मेलन में अपने कंपनी को प्रस्तुत किया तत्पश्चात केल्विन कंपनी ने अपने इस इंवेंशन को और जिसके लिए यह कॉरपोरेशन बनाया था वह अपनी रेडियो को अलग-अलग नाम से बाजार में उतारना था इसलिए उन्होंने रेडियो को मोटोरोला को अपना कंपनी का नाम रखा। और यह मोटरोला कंपनी अपनी रेडियो को 27 जून 1930 में पहली बार भेजा था और वह भी 30 अमेरिकन डॉलर में उस दौरान या मोटरोला कंपनी बहुत ज्यादा प्रचलित हो गया और बहुत सारे लोग का इसमें रुचि आने लगा जिसके बदौलत इन कंपनियों का विस्तार होने लगा और यह प्रचलित होने लगा।

मोटोरोला ने नासा (NASA) के satelites के लिए रेडियो उपकरण बनाया

धीरे-धीरे जब या मोटरोला कंपनी Motorola Company बहुत ज्यादा प्रचलित हो गया और लोगों के मन में इस कंपनी के प्रति आकर्षित होने लगे तब अत्यधिक लोकप्रियता होने के कारण इस कंपनी ने केल्विन मैन्युफैक्चरिंग कॉरपोरेशन "Kelvin Manufacturing Corporation " को हटाकर मोटोरोला (MOTOROLA) रख दिया था क्योंकि जब कंपनी इतना ज्यादा विकसित होने लगा तब कंपनी के पास एक ही ऑप्शन था और यह था कि वह अपनी कंपनी को एक उच्च श्रेणी में रखें जिससे लोगों को उस कंपनी के प्रति आकर्षित हो और लोग उसकी कंपनी को सराहना करें तथा उस कंपनी का बनाया हुआ यंत्र अत्यधिक मात्रा में बिक सके। और धीरे-धीरे मोटरोला कंपनी विकसित होते क्या फिर उसके कुछ सालों बाद मोटरोला कंपनी ने मोटर कार रेडियो रिसीवर बनाए थे जो उन्होंने वहां के किसी पुलिस डिपार्टमेंट को भेज दिए थे फिर उन्होंने दूसरे विश्वयुद्ध के दौरान मोटरोला कंपनी ने एससीआर 536 नाम का रेडियो लॉन्च कर दिया था जो इनके अमेरिकन मिलिट्री को कम्युनिकेशन करने में बहुत मदद मिलती थी इस कारण उन्होंने इस रेडियो को अमेरिकन मिलिट्री को बेजती फिर कुछ साल बाद जाने की 1947 में मोटरोला कंपनी ने अपना नया गैजेट बनाया टेलीविजन भीटी 71 बनाया था। इस तरह यह मोटरोला कंपनी टीवी और रेडियो बनाने का काम करती थी जब यह कंपनी शुरुआत की थी तब इन्होंने रेडियो और टीवी का ही इन्वेंशन किया इनका शुरुआत उपकरण था .
मोटरोला कंपनी ने साल 1958 में इनका उपकरण बहुत अत्यधिक विकसित हो गया तब इन्होंने 1958 में अमेरिकन स्पेस एजेंसी नासा का पहला सैटेलाइट लॉन्च करते समय मोटरोला कंपनी ने नासा की बहुत ज्यादा मदद की थी उसके लिए उन्होंने रेडियो उपकरण बनाने का काम किया था जो नासा के लिए बहुत बहुत अधिक फायदेमंद साबित हुआ। इसके बाद इस कंपनी ने 3 अप्रैल 1973 मैं मोटरोला कंपनी ने दुनिया का पहला पोर्टेबल फोन बनाया था जो उस दौरान किसी दूसरे कंपनी ने नहीं किया था और जब मोटरोला कंपनी ने दुनिया का पहला पोर्टेबल फोन बनाया था तब यह कंपनी और अधिक प्रचलित हो गया और यह कंपनी शीर्ष पर पहुंच गया था।

और जब यह मोटरोला कंपनी अपना पहला पोर्टेबल फोन बनाया था तब इसका नाम इन्होंने ""मोटरोला DYN TAC"' जिसको मॉडल कंपनी के इंजीनियर मार्टिन कूपर ने बनाया था उसके बाद मोटरोला कंपनी और विकसित होने के बाद साल 1974 में मोटरोला कंपनी ने अपना विकसित और बढ़ाया यानी कि अपना बिजनेस को और दूसरा गैजेट में परिवर्तन किया उन्होंने 1974 में टीवी का बिजनेस जापान की कंपनी मात्सुशीता को बेच दिया। और यह जो मात्सुशीता(MATSUSHITA ) है यह पैनासोनिक कंपनी ( "PANASONIC") की सब ब्रांड है मोटरोला टेलीविजन का बिजनेस भेज दिया क्योंकि इस कंपनी को फोन पर बहुत अधिक लोकप्रियता मिल रहा था इसलिए इन्होंने अपने टेलीविजन का बिजनेस भेज दिया और अपना कंपनी को फोन बनाने में अधिक समय देने लगा।

मोटोरोला ने दुनिया का पहला सेलुलर फ़ोन बनाया , MOTOROLA ne duniya pahla cellular phone banaya

मोटरोला कंपनी को फोन बनाने का बिजनेस में बहुत ज्यादा डिमांड होने लगा इनका लोकप्रियता बढ़ने लगा तब इन्होंने फोन बनाने में ही इस कंपनी को ज्यादा वक्त दिया क्योंकि बाकी उन्होंने जितने गैजेट बनाएं वह इतने नहीं चले जितने की इनका फोन चला इसलिए इन्होंने अपने कंपनी को इसी फोन पर ज्यादा समय दिया और साल 1984 में, Motorola दुनिया का सबसे पहला सेल्यूलर फोन बनाया था जिनका नाम DYNTAC 8000 X था। फिर इसी तरह मोटोरोला कंपनी ने तरह-तरह के मोबाइल फोन को लांच किया और इस कंपनी फोन बनाने में नंबर वन कंपनी कॉल आया और यह कंपनी शीश पर पहुंच गया था।

Motorola को Google ने खरीद लिया।

साल 2007 से मोटोरोला कंपनी का धीरे धीरे सबके मन में से लोकप्रियता खत्म होने लगा , और यह कंपनी का मानो अंतिम समय आ गया था और इस वजह से इस कंपनी ने 4 जनवरी 2011 को मोटरोला कंपनी को दो कंपनियों में बांट दिया था।

1. मोटरोला मोबिलिटी (Motorola Mobility
2. मोटोरोला सॉल्यूशन (Motorola Solution)

जब मोटरोला कंपनी ने अपनी कंपनी मोटरोला मोबिलिटी (Motorola Mobility)और मोटोरोला सॉल्यूशन (Motorola Solution) को बेचा तब गूगल (Google) ने साल 2012 में मोटरोला मोबिलिटी (Motorola Mobility को खरीद लिया।

लेनोवे ने मोटोरोला को ख़रीदा ( Lenovo ne Motorola ko kharid liya )

लेनोवे ने मोटोरोला को ख़रीदा ( Lenovo ne Motorola ko kharid liya )

2 साल बाद, Google ने MOTOROLA को LENOVO के पास बेच दिया।
और आज यह कंपनी लेनोवो की वजह से एक बार फिर आगे आने की प्रयास कर रही है। इस तरह से यह मोटरोला कंपनी का शुरुआत हुआ था और इस कंपनी का विस्तार लेनोवो तक पहुंचा।

क्या MOTOROLA एक Chinese company है ?

मोटोरोला का जब स्थापना हुआ था तब तो ये चीनी कंपनी नही था , लेकिन इसको कई लोगों ने खरीदा और बेचा , और अभी ये Lenovo के पास है , आपको ये जानकर हैरानी होगी की LENOVO एक चीन की कंपनी है , और इस तरह से hum कह सकते हैं की मोटोरोला का पूरा कण्ट्रोल abhi एक चीनी कंपनी (chinese company )के पास है।

मोटो किस देश की कंपनी है [moto kaha ki company hai]

तो दोस्तों ये तो पता चल ही गया होगा की - मोटो एक अमेरिकी कंपनी है। पर उसे lenovo नाम की chinese कंपनी ने खरीद लिया है।

Lenovo kis desh ki company hai

Lenovo एक चीन की technology की एक बहूत बड़ी कंपनी है। lenovo ने ही मोटो को खरीद लिया है।

Conclusion

मुझे उम्मीद है कि आपको मोटरोला कंपनी किसका कंपनी है ? एवं मोटरोला कंपनी अविष्कार कैसे हुआ था ? आपको यह समझ आ गया होगा , अगर मेरे इस आर्टिकल से आप सबको किसी भी चीज का जानकारी ना मिली हो तो मैं तहे दिल से क्षमा चाहता हूं मैं पूरा कोशिश करता हूं की आप लोगों के समझ अच्छा से अच्छा आर्टिकल प्रस्तुत कर सकूं। आप लोग इसी तरह के और भी आर्टिकल हमारे साइट से पढ सकते हैं। धन्यवाद!!!

मोटो किस देश की कंपनी है ?

मोटो एक अमेरिकी कंपनी है। पर उसे lenovo नाम की chinese कंपनी ने खरीद लिया है।

Lenovo kis desh ki company hai ?

Lenovo एक चीन की technology की एक बहूत बड़ी कंपनी है।